728 x 90

ताज़ा ख़बरें

  • hindi/Eho4EX2VoAMsOI6.jpg
    ये कौन सी शिवसेना है, ये कौन सी मराठी अस्मिता है?

    कार्टूनिस्ट बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना ने तब सारी मर्यादाएँ लांघ दी, सारे सिद्धांत तोड़ दिए, जब एक कार्टून बनाने मात्र से गुंडे भेज कर एक पूर्व नेवी अफसर को मारा पिटा गया। किसने सोचा था कि हिन्दू ह्रदय सम्राट की शिवसेना के नाक के नीचे 3 साधुओं को पुलिस के सामने मौत के घाट उतार दिया जाएगा और सरकार 90 दिन के बाद चार्जशीट भी दायर नहीं करेगी। किसने सोचा था कि यही शिवसेना बॉलीवुड के ड्रग माफियाओं और कातिलों को बचाने के लिए पूरा सिस्टम झोंक देगी? शिवसेना मराठी अस्मिता को और कितना चोट करना चाहती है?

    और पढ़ें
  • hindi/bel-ecil-scam-of-employment.jpg
    अनुबंधित रोजगार: सरकार की निजीकरण से कोरोना काल मे बेरोजगार हुए सैकड़ो युवक

    भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड और इ सी आई एल जैसी अर्ध सरकारी कंपनियाँ, कॉन्ट्रैक्ट रोजगार के नाम पर देश में युवा प्रतिभाओं की बलि दे रहीं हैं। इंजिनियरों को रोजगार देने के नाम पर लिया जाता है और उनका उपयोग होने के बाद उन्हें बेरोजगार कर बीच मझधार में छोड़ दिया जाता है।

    और पढ़ें
  • hindi/hindi-lang.jpg
    अंग्रेजी के पीछे भागता वर्ग, क्या जानता है, देश की पहचान अंग्रेजी नहीं?

    हिंदी और संस्कृत ऐसी उन्नत भाषाएँ हैं, जिनका महत्व सिर्फ भारत में ही नही समझा जाता, जबकि विदेशी इस पर शोध करते हैं, इसके बारे जानने की कोशिश करते हैं। लेकिन अफसोस! भारत में अपनी ही भाषा महत्वहीन और मेहमान होकर रह गयी है और संस्कृत तो विलुप्तप्राय है।

    और पढ़ें
  • hindi/bird-story.jpg
    टिटिहरा कहिन क्या इस देश के तथाकथित बुद्धिजीवी टिटिहरा हैं?

    आज सालों बाद फिर एक पुरानी पुस्तक हाथ लगी। पुस्तक थी 5वीं कक्षा के वेल्यू एजुकेशन विषय की। एक समय था जब यहीं वेल्यू एजुकेशन की पुस्तक बहुत प्रिय हुआ करती थी, पर समय बीतते ना बीतते इसी एजुकेशन की वेल्यू पर धूल की तहें जमती चली गईं। बहरहाल किताब के तमाम पन्नों से होते हुए नज़रें एक विशेष पन्ने पर जा टिकिं।

    और पढ़ें
  • hindi/corona-dharm.jpg
    कोरोनावायरस : क्या धर्म छुट्टी पर और विज्ञान ड्यूटी पर है?

    सनातन धर्म की शिक्षा विपरीत परिस्थितियों में भी धर्म पालन करने की रही है इसलिए इतनी तकलीफ उठाने के बाद भी हमारे डाक्टर अपना धर्म का पालन कर रहे हैं। विज्ञान ड्यूटी पर है तो धर्म भी है, पर हाशिये पर लटकी उन लोगों की सोच है जो महामारी में भी प्रोपगंडा की रोटियाँ सेकने से बाज नहीं आ रहे।

    और पढ़ें
  • hindi/Mata-sita.jpg
    माँ सीता की अग्निपरीक्षा, क्या कहा है वाल्मीकि रामायण में, क्या है सच?

    कई स्वघोषित महाज्ञानीओं के एक विशेष वर्ग ने प्रश्न भी किया कि जो इस एपिसोड में दिखाया गया वो वाल्मीकि रामायण में अंकित नहीं है| वाल्मीकि ने अगर घटना कैसे घटित हुई उसका वर्णन किया है, तो व्यास ने उस घटना के मूल मंत्र को प्रस्तुत किया है| इनकी कुंठा का नींव ही वो सवाल है जो माँ सीता को एक पितृसतात्मक सत्ता में ‘बेचारी प्रताड़ित स्त्री’ की संज्ञा देने पर तुला हुआ है|

    और पढ़ें


Page 1 of 2